पी. सी. एस में पूछे जाने वाले भौतिक विज्ञान के प्रश्न

  • पृथ्वी द्वारा किसी वस्तु पर लगाया गया गुरूत्वीय बल को भार कहते है। किसी वस्तु का भार द्रव्यमान एवं गुरुत्वीय त्वरण के गुणनफल के बराबर होता है –  (W=mg)
  • एक किग्रा द्रव्यमान के पिण्ड को पृथ्वी 9.8 न्यूटन के बल से अपनी ओर खिंचती है।
  • पृथ्वी अपनी अक्ष के परित घूमना बन्द कर दे तो वस्तुओं के भार पर प्रभाव पडेगा। – ध्रुवों के अतिरिक्त प्रत्येक स्थान पर वृद्धि होगी।
  • पृथ्वी की घूर्णन गति बढ़ने पर वस्तुओं के भार पर प्रभाव पडेगा – ध्रुवों के अतिरिक्त हर स्थान पर वस्तुओं के भार में कमी होगी।
  • पृथ्वी का भार का मान अक्षांस के साथ-2 होता है – परिवर्तित
  • लिफ्ट के ऊपर जाने पर उस पर स्थित वस्तु का आभारी भार- बढ़ जायेगा
  • लिफ्ट के नीचे जाने पर उस पर स्थित वस्तु का आभारी भार – कम हो जायेगा।
  • दुर्घटनावश लिफ्ट टूट जाने पर उस पर स्थित वस्तु हो जायेगी – भारहीन
  • लिफ्ट के समान चाल के ऊपर या नीचे जाने पर उस पर स्थिति वस्तु का आभारी भार होगा – वास्तुविक भार के बराबर
  • जंग लगने पर लोहे के भार में क्या परिवर्तन होगा – लोहे के भार में वृद्धि हो जायेगी।
  1. किसी वस्तु को दूसरे स्थान पर ले जाने पर उसके द्रव्यमान में कोई प्रभाव नहीं पड़ता जबकि गुरुत्वीय त्वरण का मान बदल जाता है जिसके कारण भार के मान में परिवर्तन हो जाता है।
  2. कृत्रिम उपग्रह में रखी वस्तु होगी – भारहीनता की अवस्था में
  3. पृथ्वी तल के ऊपर या नीचे जाने पर गुरुत्वीय त्वरण के मान पर प्रभाव पड़ता है – घटता है।
  4. पृथ्वी तल के एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने पर गुरुत्वीय त्वरण का मान- बदल जाता है।
  5. पृथ्वी के केन्द्र पर वस्तुओं के भार शून्य होते है।
  6. सूर्य का प्रकाश सात रंगो से मिलकर बना है
  7. ऊपर फेंकने पर वस्तु नीचे की ओर गुरूत्वाकर्षण बल के कारण आती है।

Quiz Matched Content(quiz_matched_content)
सभी सरकारी नौकरी की तैयारी करे वो भी घर बैठे सिर्फ QuestionExam फेसबुक पेज Like करके।
Tags : गुरूत्वाकर्षण बल, द्रव्यमान, न्यूटन के बल, पृथ्वी, सूर्य का प्रकाश
Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *