Article

Showing posts with label proverbs - मुहावरे या कहावत in hindi. Show all posts
Showing posts with label proverbs - मुहावरे या कहावत in hindi. Show all posts

Saturday, August 10, 2019

Proverbs - मुहावरे या कहावत in hindi | idioms हिन्दी में proverbs for students लोकोक्तियाॅं

Proverbs मुहावरे या कहावत in hindi | idioms हिन्दी में  for students
लोकोक्तियाॅं

 

 

Proverbs - मुहावरे या कहावत in hindi | idioms
Proverbs - मुहावरे या कहावत in hindi | idioms



एक कहावत (लैटिन से: कहावत) Proverbs एक सरल, ठोस, पारंपरिक कहावत है जो सामान्य ज्ञान या अनुभव के आधार पर एक सच्चाई को व्यक्त करती है। नीतिवचन अक्सर रूपक होते हैं और सूत्र भाषा का उपयोग करते हैं।  idioms हिन्दी में सामूहिक रूप से, वे लोकगीतों की एक शैली बनाते हैं। 
30 proverbs

Proverbs कुछ कहावतें एक से अधिक भाषाओं में मौजूद हैं क्योंकि लोग उन्हें अपनी भाषाओं और संस्कृतियों से उधार लेते हैं। पश्चिम में, बाइबिल (नीतिवचन की पुस्तक तक सीमित नहीं है) और मध्ययुगीन लैटिन (इरास्मस के काम से सहायता प्राप्त) ने कहावतों को वितरित करने में काफी भूमिका निभाई है। हालाँकि, सभी बाइबिल की कहावतें एक ही सीमा तक नहीं बांटी गई थीं: hindi proverbs for students एक विद्वान ने उन संस्कृतियों को दिखाने के लिए सबूत जुटाए हैं जिनमें बाइबल "प्रमुख आध्यात्मिक पुस्तक में तीन सौ से लेकर पाँच सौ तक की कहावतें हैं 
30 proverbs




अंग-अंग ढीला होना बहुत थकना
अंगारे उगलना क्रोध की अवस्था में कटु वचन बोलना
अपने पैर कुल्हाडी मारना स्वयं अपने को हानि पहुंचाना
अक्ल का दुश्मन महामूर्ख
अगर-मगर करना टाल मटोल करना
अंगूठा दिखाना देने से मना कर देना
अक्ल का पुतला बहुत बुद्धिमान
अंगारों पर लोटना दुख सहना
अंगारों पर पैर रखना खतरा मोल लेना
अंधेर नगरी खुशामद साधना
अंधे की लकड़ी एकमात्र सहारा
अंगूठा चूमना खुशामद करना
अपना उल्लू सीधा करना स्वार्थ साधना
अंधे की लकड़ी एकमात्र सहारा
अक्ल के  घोड़े दौडाना बहुत सोच-विचार करना
आड़े समय पर काम आना सिफारिश करना
आधा तीतर आधा बटेर बेमेल होना
अपनी खिचड़ी अलग पकाना साथ मिलकर न रहना
ईद का चांद होना बहुत दिनों बाद दिखाई देना
उलट-फेर होना परिवर्तन होना
अपने मुंह मियां मिटठू बनना अक्ल की रोटी खाना
अक्ल चकराना कुछ समझ में न आना
उंगली पर नचाना वश में करना
आठ -2 आंसू रोना बुरी तरह पछतावा करना
आंख में चर्बी छाना मद से अंधा होना
आंखो का कांटा अप्रिय व्यक्ति
उल्टे पांव कांटा रूकावट
उल्टे पांव लौटना तेजी से चलता
कलेजा मुंह को आना दुख से आकुल हो उठना
गड़े मुर्दे उखाड़ना पुरानी विवादास्पद बातो को ताजा करना
छठी का दूध याद आना परेशानी या कष्ट होना
केर-बेर का संग होना विपरीत स्वभाव वालों का एक साथ मिलना
कांटा बोना हानि पहुंचाना
गागर में सागर भरना थोड़े शब्दों में अधिक कहना
गूलर का फूल होना कभी भी दिखाई न देना
घर बसाना विवाह करना
चोर-2 मौसेरे भाई एक पेशे वाले आपस में नाता जोड़ लेते है
छाती पर मूंग दलना सामने ही आपत्तिजनक व्यवहार करना
बाग-2 होना बहुत खुश होना
लट्टू होना रीझना
मुंह में दांत न होना सामर्थ्यहीन होना
फूल सूंघ कर रहना कम खाना
अंधे के हाथ बटेर लगना अयोग्य या अक्षम व्यक्ति को मूल्यवान वस्तु मिलना
भानुमती का पिटारा वह पात्र जिसमे तरह-2 की चीजें हो
गुड़ गोबर कर देना बने हुए काम को बिगाड़ देना
चोर के दाढ़ी में तिनका आपराधी का स्वयं सशंकित होना
चुल्लू भर पानी में डूबना बेहद शर्मिदा होना
घुटने टेक देना हार मान लेना
दाल में कुछ काला होना संदेहजनक बात होना / कुछ गडबड होना
पानी में आग लगाना शांति भंग करना
छक्के छुडाना हराना
जिस पत्तल में खाना उसी में छेद करना धोखा देना
जुबान पर लगाम न होना अनावश्यक रूप से स्पष्टवादी होना
टांग अडाना अवरोध पैदा करना
आंखे चार होना प्यार होना
ढपोर शंख सब संबंध छोड़ देना
तालु में जीभ न लगना चुप न रहना
तीर मारना बड़ा काम करना
तोते की तरह आंखे फेरना पुराने संबंधो को एकदम भुला देना
आकाश-पाताल एक करना बहुत परिश्रम करना


Hindi proverbs for students 

 

द्रौपदी का चीर कभी समाप्त न होना
आग बबुला होना गुस्से से भर उठना
दिल पक जाना अत्यंत पीडित होना
दिन को दिन औऱ रात को रात न समझना कोई बड़ा काम करते समय अपने सुख औऱ आराम का कुछ भी ध्यान न देना
न तीन में न तेरह में किसी काम का न होना
पौ बारह होना लाभ ही लाभ होना
बांसो उछलना प्रसन्न होना
भागीरथ उछलना असाधारण प्रयत्न
मूंछ मुडाना हार मानना
मखमली जूते मारना मीठी बातों से लज्जित करना
सुबह-शाम करना टाल-मटोल करना
कमर कसना तैयार होना
कन्नी काटना बचना
काम कतरना बहुत चालाक होना
कानों काम खबर न होना सभी को पता चलना
काम तमाम करना मार देना
कुत्ते की मौत मरना बुरी मौत मरना
कोल्हू का बैल लगातार काम में लगे रहना
खून खौलना आवेश में आना
जहरीले नाग को सामने देख कर रशिम का खून सूख गया
परीक्षाएं समाप्त होने के बाद सतीश घोड़े बेच कर सोया
आग से घिरी इमारत में फंसे लोगों की जान के पसार का   सोना है
बच्चों की जरा सी शरारत पर विवेक ने घर सिर पर उठा लिया
बेटे की प्रतीक्षा करते-2 मां की... अग्नि परीक्षा देनी पड़ती है
भगवान जब देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है
उनके आते ही महफिल में.. चार चांद लग गए
मुंशी प्रेमचंद जब लिखते थे तो कलम तोड़ देते थे।
चप्पा -2 छान मारा हर जगह खोजना
दूध के धूले निर्दोष
खतरा मोल लेना अंगारो पर पैर रखना
साॅंप सूंघ जाना निर्जीव होना


लोकोक्तियाॅं (कहावते) -  Proverbs


अधजल गगरी छलकत जाए तुच्छ व्यक्ति अपनी जरा-सी  उपलब्धि इतराने लगता है
अपनी करनी पार उतरनी जैसा कर्म वैसा फल
अब पछताए होते कया जब चिडिया चुग गई खेत क्षति के बाद पछतावा करना व्यर्थ
अपनी-2  ढपली अपना-2 राग मतैक्य का अभाव
अकेला चना भाड़ नहीं फो़ड सकता एक व्यक्ति के प्रयास से कुछ नहीं होता
अंधा बांटे रेवड़ी फिर-2 अपने देय पक्षपात करना
अंधो में काना राजा अयोग्यो-अशिक्षितों के बीच थोडा सा योग्य व शिक्षित व्यक्ति
अंधे के हाथ बटेर लगना अपात्र को सफलता मिल जाना
आम के आम गुठलियों के दाम दोहरा लाभ
आसमान से गिरा खबूर में अटका किसी काम के पूरा होते -2 बाधा पड़ जाना
आप भला तो जग भला अच्छे को सभी अच्छे लगते है
आप डूबे तो जग डूबा बुरा आदमी सब को बुरा कहता है
अंधा क्या चाहे दो आंखे अति आवश्यक वस्तु को पाने की चाहत
ईश्वर की माया, कहीं धूप कहीं छाया विचित्र या विरोधाभासी संयोग
उल्टा चोर कोतवाल को डांटे स्वयं दोषी होकर दूसरे पर दोष मढ़ना
ऊंची दुकान फीका पकवान सिर्फ बाहरी प्रदर्शन, अंदर से खोखला
उल्टे बस बरेली जाना उल्टी बात का होना
ऊंट किस करवट बैठे अनिश्चत की स्थिति
एक तो करेला दूजे नीम चढ़ा बुरे में बुराई का और बढ़ जाना
एक और एक ग्यारह होते है संगठन में शक्ति है
एक हाथ से ताली नही बजती है एक तरफ से झगड़ा नहीं होता है
एक मछली सारे तालाब को गंदा कर देती है एक गंदा व्यक्ति सब के लिए कष्टप्रद बन जाता है
ऐसे बूढ़े बैल को कौन बांध भुस देय अकर्मण्य व्यक्ति की सहायता कौन करें
ओछी पूंजी खसम को खाय कम पूंजी वाला व्यपारी थोडे दिनों में ही नष्ट हो जाता है
ओस चाटे प्यास नहीं बुझती बहुत थोडी मात्रा से आवश्यकतापूर्ण नहीं होती
कहां राजा भोज कहां गंगू तेजी बेमेल संबंध
कंगाली में आटा गीला एक मुसीबत पर दूसरी मुसीबत आ जाना
काला अक्षर भैेस बराबर अनपढ़ होना
कबाड़ी की छाज पर फूस नहीं जो जिस चीज का व्यापार करता है, उसे खुद प्रयोग नहीं करता
कोयले की दलाली में हाथ काले बुरी संगति से बुराई ही मिलती है
कूद-2 मछली बगुले को खोये जब समय उल्टा आता है तो निर्बल भी बली हो जाते है
गुरू गुड़ चेला चीनी गुरु से चेले का आगे बढ़ जाना
चोर-2 मौसेरे भाई चोरी की माताओं के स्वभाव एक जैसे होते है
चोर की दाढ़ी में तिनका अपराधी सदा शंका से घिरा रहता है
कोठी में अनाज घर में उपवास कृपण व्यक्ति सब कुछ होते हुए भी
जहां न पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवि कवि की कल्पना वहां तक पहुंच जाती है
नीम-हकीम खतरा ए जान अल्प विद्दा घातक
बिल्ली को पहले ही दिन मारना चाहिए बुरा समय आते ही सचेत हो जाना चाहिए
राम नाम जपना, पराया माल अपना धोखे से धन जमा करना
हाथ कंगन को आरसी क्या प्रत्यक्ष को प्रमाण की आवश्यकता नहीं
कौड़ी नहीं पास मेला लगे धनाभाव में अच्छी चीज भी खराब लगती है
कौआ चला हंस की चाल दूसरो की नकल पर चलने में असलियत नहीं छिपती
गुड न दें, पर गुड की सी बात तो करे कुछ न दें पर मीठा बोल तो करें
चांद को भी ग्रहण लगता है भले आदमी की बदनामी होना
जस दूल्हा तस बनी बरात जैसे खुद वैसे ही साक्षी संगी
डंडा सब का पीर सख्ती बरतने से लोग काबू में आते है
थका ऊंट सराय ताकता बुरा समय आते ही सचेत हो जाना चाहिए

In Feed